18 June 2021

senior journalist shekhar gupta said indian government has hide real Covid infections and death numbers – कोरोनाः शेखर गुप्ता का दावा- भारत ने छिपाया मौतों का आंकड़ा, कहा- बंटवारे के समय हुई मौतों से दोगुने लोग बने शिकार

भारत में कोरोना से हुई मौतों के सरकारी आंकड़ों पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। पिछले दिनों अमेरिकी अख़बार न्यूयार्क टाइम्स ने भी भारत सरकार के द्वारा पेश किए गए आंकड़ों को गलत ठहराते हुए कहा था कि देश में करीब 42 लाख लोग इस महामारी की वजह से मारे जा चुके हैं। वहीं अब वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता ने भी दावा किया है कि सरकार ने मौतों का आंकड़ा छिपाया है।

वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता ने अपने न्यूज वेबसाइट द प्रिंट के लिए लिखे एक लेख में दावा किया है कि भारत में कोरोना के कारण हुई मौतों के आंकड़े कम बताए गए हैं। ऐसा हर जगह हुआ है। लेकिन हमारी स्थानीय नगर पालिकाओं, निकायों और सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं का जो हाल है, उसके कारण यह उम्मीद की जाती है कि भारत में आंकड़े एक तिहाई कम करके बताए गए होंगे।

इसके अलावा शेखर गुप्ता ने लिखा कि आजादी के बाद पहली बार बीते तीन महीने में देश को राष्ट्रीय त्रासदी, सरकारी अकर्मण्यता और राष्ट्रीय शर्म का सामना करना पड़ा। आगे शेखर गुप्ता ने लिखा कि अंतिम संस्कार के लिए शवों की कतारों, श्मशानों में लकड़ी और कब्रिस्तानों में जगह की कमी, ऑक्सीजन के बिना तड़पकर मरते लोगों और नदियों में बहते शवों की तस्वीर इस पीढ़ी के दिलो दिमाग पर ऐसे छप गई जैसे बंटवारे के समय नरसंहार और सामूहिक बलात्कार की तस्वीर उनके माता पिता के दिलो दिमाग पर छपी थी।

आगे शेखर गुप्ता ने लिखा कि पिछले दो महीने में कई भारतीय मौत के शिकार हुए, जिनमें से अधिकतर को बचाया जा सकता था। अगर पिछले साल केवल 2 लाख लोग मरे, तो क्या पिछले सात सप्ताहों में 40 लाख लोग मरे? यह तो बंटवारे के बाद दो वर्षों में मारे गए लोगों की संख्या से भी दोगुनी है. साथ ही शेखर गुप्ता ने अपने लेख में न्यूयार्क टाइम्स में छपी खबर का भी जिक्र किया। शेखर गुप्ता ने लिखा कि न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में बदतर हालात की बात की गई है लेकिन बद से बदतर हालात की बात नहीं की गई है। या हो सकता है कि बद से बदतर वाले हालात को लिखने या पढने के लिए मैं या आप ही न जिंदा रहें। 

बता दें कि 25 मई को न्यूयार्क टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि जो आंकड़ा सरकार दे रही है वो हकीकत से बहुत ज्यादा उलट है। सरकारी आंकड़ों में मरने वाले लोगों की तादाद 3.07 लाख बताई गई जबकी न्यूयार्क टाइम्स के मुताबिक ये आंकड़ा 14 गुना ज्यादा था। न्यूयार्क टाइम्स के अनुसार भारत में अबतक करीब 42 लाख लोग कोरोना महामारी की वजह से मारे जा चुके हैं।



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई


You may have missed

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x