Home ताज़ा क्या 2000 रुपए के नोट बंद होने वाले हैं ? यहां जानिए पूरी सच्चाई… 2000 के नोटों को लेकर RBI का बड़ा खुलासा, इस साल नहीं छपा एक भी नोट

क्या 2000 रुपए के नोट बंद होने वाले हैं ? यहां जानिए पूरी सच्चाई… 2000 के नोटों को लेकर RBI का बड़ा खुलासा, इस साल नहीं छपा एक भी नोट

11 second read
Comments Off on क्या 2000 रुपए के नोट बंद होने वाले हैं ? यहां जानिए पूरी सच्चाई… 2000 के नोटों को लेकर RBI का बड़ा खुलासा, इस साल नहीं छपा एक भी नोट
0
93

पिछले कुछ वक्त से 2000 रुपए के नोट बंद होने की चर्चा जोरों पर है। इस बीच खबर सामने आई है कि नोटबंदी के बाद शुरू किए गए 2 हजार के नोट की छपाई रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने बंद कर दी है। RTI के तहत पूछे गए सवाल के जवाब में रिजर्व बैंक ने भी माना है, कि इस वित्त वर्ष में 2,000 रुपये का एक भी नोट नहीं छापा गया। अब RBI ने इसके पीछे की असली वजह तो नहीं बताई, ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि

क्या 2000 रुपए के नोट बंद होने वाले हैं ?

RBI ने क्यों बंद की 2 हजार के नोटों की छपाई ?

जानकारों की मानें तो इस अधिक वैल्यू वाले नोट को बंद करने के पीछे ब्लैक मनी, भ्रष्टाचार और जाली करंसी बड़े कारण हैं। अधिक वैल्यू वाले नोटों से ब्लैक मनी बढ़ जाती है और भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलता है। ब्लैक मनी रखने वाले अधिक वैल्यू के नोटों को अपने पास जमा कर लेते हैं। इसके साथ ही जाली करंसी की समस्या से निपटने के लिए भी ये कदम उठाया गया है। जानकारों की मानें तो NIA ने हाल ही में बताया था कि पाकिस्तान से 2,000 रुपये के जाली नोट बड़ी संख्या में भारतीय मार्केट में पहुंचाए जा रहे हैं। इन नोटों की पहचान करना भी आसान नहीं है। इसके अलावा इंटेलिजेंस ब्यूरो और फाइनैंशल इंटेलिजेंस यूनिट ने भी सरकार को गैर कानूनी गतिविधियों के लिए 2,000 रुपये के नोटों को जमा किए जाने का चलन बढ़ने की रिपोर्ट दी थी।

जानकार बताते हैं कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के कई छापों में जब्त किए गए नोटों में से अधिकतर 2,000 रुपये के हैं। इससे संकेत मिलता है कि टैक्स की चोरी और वित्तीय अपराधों में शामिल लोग इन नोटों को अधिक पसंद करते हैं। ऐसे में 2 हजार के नोटों की छपाई बंद करने से कुछ हद तक ब्लैक मनी की समस्या से निपटने में मदद मिलेगी। इससे ब्लैक मनी रखने वालों के लिए करंसी जमा करना मुश्किल हो जाएगा। सरकार के लिए एक बड़ी समस्या जाली करंसी की है। ऐसे में 2,000 का नोट बंद होने से जाली करंसी का व्यापार करने वालों के लिए मुश्किल बढ़ जाएगी, क्योंकि कम वैल्यू के जाली नोट बनाना और उन्हें चलाने में फायदा कम और पकड़े जाने का खतरा अधिक होता है।

आपको बता दें कि मोदी सरकार के साल 2016 में 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों पर रोक लगाने के फैसले के बाद, RBI ने पहले 2,000 रुपये के नोट बैंकिंग सिस्टम पहुंचाए थे। इसके बाद 500 रुपये के नए नोट लाए गए थे।

Check Also

क्या महाराष्ट्र में बिना BJP के सरकार बनाना शिवसेना का आखिरी सुसाइड है ?

क्या महाराष्ट्र में बिना BJP के सरकार बनाना शिवसेना का आखिरी सुसाइड है ? तो क्या मुख्यमंत्…