Home पॉलिटिक्स राहुल गांधी के पास अब मोदी के खिलाफ कोई मुद्दे ही नहीं बचे, महाराष्ट्र में उनके इस बयान ने इस बात को साबित कर दी है

राहुल गांधी के पास अब मोदी के खिलाफ कोई मुद्दे ही नहीं बचे, महाराष्ट्र में उनके इस बयान ने इस बात को साबित कर दी है

0 second read
Comments Off on राहुल गांधी के पास अब मोदी के खिलाफ कोई मुद्दे ही नहीं बचे, महाराष्ट्र में उनके इस बयान ने इस बात को साबित कर दी है
0
64

आगामी महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के मदना में गिनती के दिन बाकी रह गए हैं। ऐसे में कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी चुनाव प्रचार में उतर गए हैं। इसी कड़ी में उन्होंने कई इलाकों में ताबड़तोड़ जनसभाएं कीं। इस दौरान राहुल ने मोदी सरकार और बीजेपी को घेरने के लिए अपने भाषणों में राफेल से लेकर नीरव मोदी और गब्बर सिंह टैक्स का ही जिक्र किया। ये सारे वही मुद्दे हैं, जिसे राहुल ने लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार के खिलाफ हथियार बनाया था। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि

क्या विधानसभा चुनावों के लिए राहुल गांधी के पास मुद्दे नहीं हैं ?

क्या लोकसभा के फुस्स पटाखों से धमाका करना चाहते हैं राहुल ?

दरअसल राहुल गांधी ने प्रचार के पहले ही दिन महाराष्ट्र के लातूर, चांदवली और धारावी में जनसभाएं कीं। राहुल ने अपनी पहली रैली में ही नोटबंदी और बैंक घोटालों का जिक्र किया। राहुल ने कहा कि मोदी बोलते थे कि नोटबंदी से भला नहीं हुआ, तो मुझे फांसी दे देना। मगर नोटबंदी से किसका फायदा हुआ, नीरव मोदी तो भाग गया। उन्होंने कहा कि नवंबर 2016 में नोटबंदी और उसके बाद जीएसटी से देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। ऑटोमोबाइल से टेक्सटाइल तक, और हीरा से लेकर छोटे व्यवसायों तक का बुरा हाल है। सिर्फ महाराष्ट्र में 2 हजार से ज्यादा फैक्ट्री बंद हो चुकी है। वहीं नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे ‘चोर’ लूटकर देश से फरार हो गए।\

राहुल गांधी की सभा में राफेल विमान और चौकीदार चोर है की गूंज भी सुनाई दी। कांदीवली की रैली में जब राहुल ने राफेल विमान डील में चोरी का आरोप लगाया, तो चौकीदार चोर है का नारा भी सुनाई दिया। राहुल ने कहा कि आप देश में कहीं भी जाइए, लोग सिर्फ बेरोजगारी, कृषिभूमि संकट और अर्थव्यवस्था की बात कर रहे हैं। अच्छे दिन का वादा किया गया था, वो कहां गया? नहीं आया न! नोटबंदी के बाद कोई नहीं जानता कितना काला धन बरामद हुआ, मगर गरीब और बहुत से ईमानदार लोग परेशान हुए।

आपको बता दें कि ये तमाम मुद्दे वो हैं, जो राहुल गांधी की तरफ से पांच महीने पहले हुए लोकसभा चुनाव के दौरान भी जोर-शोर से उठाए गए थे। राहुल को यकीन था कि इन मुद्दों पर जनता बीजेपी को सबक सिखाएगी और कांग्रेस सत्ता में वापसी करेगी। लेकिन 23 मई को जब लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजे आए, पूरी तस्वीर ही बदल गई और जनता ने बीजेपी को और अधिक सीटें जिताकर मोदी सरकार की जबरदस्त वापसी पर मुहर लगा दी। ऐसे में विधानसभा चुनाव में इन मुद्दों का कांग्रेस को कितना फायदा होता है, ये देखना दिलचस्प होगा।

Check Also

क्या महाराष्ट्र में बिना BJP के सरकार बनाना शिवसेना का आखिरी सुसाइड है ?

क्या महाराष्ट्र में बिना BJP के सरकार बनाना शिवसेना का आखिरी सुसाइड है ? तो क्या मुख्यमंत्…