18 June 2021

Punya Prasun Bajpai Furious On Modi Government: Says No Education, No Employment Big issue that prevailed over death, search continues’, Bajpayee taunts PM Modi; Started asking questions while talking – न शिक्षा न रोजगार, भारत को बर्बाद करने पर तुली सरकार- मोदी सरकार पर भड़के पुण्य प्रसून बाजपेयी, बोले- सब राम भरोसे

Punya Prasun Bajpai: वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने सोशल मीडिया पर अपने कुछ पोस्ट के जरिए मोदी सरकार पर तीखा व्यंग किया है। एक के बाद एक कई ट्वीट कर पुण्य प्रसून बाजपेयी ने कहा कि देश में न ही शिक्षा है और न ही रोजगार, मोदी सरकार देश को बर्बाद करने पर तुली है। वहीं दूसरे पोस्ट में मोदी सरकार पर तंज कसते हुए बाजपेयी बोले- राम भरोसे, भगवान भरोसे, साबित हो गया ये सिर्फ़ मुहावरा नहीं। खोज जारी है… ऐसा कोई बड़ा मुद्दा जो मौत पर भारी पड़ जाए।

देश में कोरोना संकट से जूझते लोगों की हालत देख बाजपेयी बोले- ‘अब तो मौत का मंजर बीमा आंकड़ों को मात देने लगा है।’ उन्होंने आगे लिखा- मौत का भी इलाज हो शायद ज़िन्दगी का कोई इलाज नहीं -फ़िराक़। एक अन्य पोस्ट में प्रसून बाजेपेयी ने लिखा- कैसी चली है अब के हवा, तेरे शहर में बंदे भी हो गये हैं खुदा, तेरे शहर में। बाजपेयी ने आगे कहा- बिना सिस्टम, बिना इन्फ़्रास्ट्रक्चर… 50 करोड़ लोगों का आयुष्मान भारत! कैसे ढह गई दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम?

विदेश में वैक्सीन भेजने को लेकर मोदी सरकार से सवाल करते हुए बाजपेयी ने पूछा- ‘भारत ने 6.63 करोड़ वैक्सीन दुनिया भर में भेजी। मेहुल चौकसी के देश को भी 40 हज़ार भेजी। 16 अप्रैल तक वैक्सीन भेजी गई। तो सवाल पूछने वालों से क्यों डरती है सरकार?’

पुण्य प्रसून बाजपेयी के इन पोस्ट को देख कर लोगों ने भी ढेरों रिएक्शन देने शुरू कर दिए। रुद्रानिल नाम के यूजर ने लिखा- हमें लगा था कि मोदी सरकार देश में बड़ा बदलाव लाएगी। सबव अच्छा होगा। लेकिन उन्होंने तो देश को मुश्किल हालातों में ला खड़ा किया। हमें लगा था कि वह देश के सबसे बेहतर पीएम बनेंगे। लेकिन वह तो वर्स्ट बन गए। अब हमें भगवान पर भरोसा है कि वही हमें बचाएंगे।

संगीता यादव नाम की एक यूजर ने लिखा- “जिस तहज़ीब में इंसान की पूजा हो वहां बड़ी शख़्सियतें पैदा ही नहीं हो सकतीं।” अनूप कुमार बोले- किस अधिकार से अनपढ़ लोग मंत्री या नेता बनते रहे हैं? संविधान की बात बोलोगे..तो ऐसा संविधान किसने बनाया और इस त्रुटि पर बात क्यों नहीं होती है? एक वर्ग पर जनसंख्या कानून और नसबंदी इंदिरा गांधी ने लागू किया, एक वर्ग को फ्री क्यों छोड़ा? ऐसा किस नियम के अंतर्गत?

पंकज कुमार नाम के यूजर ने बाजपेयी को जवाब देते हुए कहा- आप सही में बुद्धू हैं, कोरोना से बचने दीजिए। सब होगा शिक्षा भी, परीक्षा भी, रोजगार भी। आपके मन में जो देश को संकट में देख कर खुशी हो रही है, वो क्यों है लोग सब समझते हैं। एक ने लिखा- Central Vista पर पैसा बर्बाद किया जा रहा है, पर ऐसे कामों पर पैसा खर्च नहीं किया जा सकता, जिससे बच्चे एक्जाम दे सकें और लोगों को कोरोना के खतरे से बचाया भी जा सके। सुमित बलिया नाम के यूजर ने लिखा- जब इतने बड़े स्तर पर वैक्सिनेशन चल ही रहा है तो सरकार को चाहिए था गुपचुप तरीके से जनसंख्या नियंत्रण का इंजेक्शन भी मिला ही देती।



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई


You may have missed

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x