18 June 2021

Parents Can Enroll Their Kids In Online Classes To Beat The Stress In Lockdown During Coronavirus Pandemic – बच्चों के लिए गेम चेंजर साबित हो सकता है लॉकडाउन, माता-पिता को रखना चाहिए इन चीजों का ख्याल

कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए सरकार द्वारा बार-बार लॉकडाउन बढ़ाया जा रहा है। लॉकडाउन के बढ़ने से बच्चों की मानसिक स्थिति सबसे ज्यादा प्रभावित हो रही है। हालांकि, अच्छी बात यह है कि बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लास गेम चेंजर साबित हुई हैं। लॉकडाउन, सामाजिक प्रतिबंध, स्कूलों का बंद होना, यात्रा ना करना और तनाव के कारण बच्चों के लिए माता-पिता की चिंता बढ़ गई है।

इस स्थिति को सुधारने के लिए मानसिक हेल्थ एक्सपर्ट्स ने माता-पिता को बच्चों के लिए एक दिनचर्या निर्धारित करने की सलाह दी है। साथ ही विशेषज्ञ माता-पिता को बच्चों के साथ समय गुजारने, बातचीत करने और महामारी के तनाव से बच्चों का ध्यान हटाने की सलाह देते हैं।

चाइल्ड मनोचिकित्सक डॉ. जिराक मार्कर इस स्थिति को लेकर कहते हैं, “लॉकडाउन के इस समय में बहुत से बच्चे एक्यूट स्ट्रेस डिसार्डर (ASD) से ग्रसित हो रहे हैं। यह इसलिए क्योंकि वह अपनी भावनाओं को काबू नहीं कर पाते। ऐसे में व्यस्क होने के नाते हमें एक उपयुक्त उम्र में महामारी के बारे में उनके सवालों के जवाब देकर उनकी मदद करने की जरूरत है। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण है कि हमें बच्चों को सार्थक रूप से बिजी करना चाहिए।”

हालांकि, बच्चों को सार्थक रूप से व्यस्त रखना कोई आसान काम नहीं है। क्योंकि, कभी-कभी वह एक ही गतिविधि को बार-बार करके जल्दी ऊब जाते हैं, ऐसे में वह नई चुनौतियों की तलाश में रहते हैं। महामारी से पहले भी बच्चों को चीजें सिखाने के लिए आप उन्हें पाठ्येतर गतिविधियों और उनकी मनपसंद क्लासों में भर्ती करते थे। ऐसे में केवल लॉकडाउन की वजह से आपको रुकने की जरूरत नहीं है।

आप उन्हें ऐसी ऑनलाइन कक्षाओं में भर्ती कर सकते हैं, जो विशेष रूप से उनकी उम्र के छात्रों के लिए तैयार की गई हैं। ऑनलाइन कुकिंग, डांसिंग और स्टोरीटेलिंग क्लासेस से लेकर ऑनलाइन ड्रामा, सोप-मेकिंग और आर्ट कक्षाएं- ऐसी कई गतिविधियां हैं जो बच्चों को रचनात्मक होने और स्कूल के पाठ्यक्रम से कुछ नया सीखने के लिए प्रोत्साहित करती हैं।

विशेषज्ञों द्वारा यह चीज देखी गई है कि जिन बच्चों ने ऑनलाइन गतिविधियों में भाग लिया है, उनका प्रदर्शन बढ़ रहा है। साथ ही उन्हें लॉकडाउन के दौरान प्रेरणा मिल रही है।

यूरेका द इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप का एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां 3 से 12 साल तक की उम्र के बच्चे रोचक एक्टिविटीज, जैसे- कुकिंग, जुंबा, आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स, म्यूजिक, ड्रामा, कहानी, डांस, जादू और फिटनेस आदि के जरिये अपनी स्किल्स को निखार सकते हैं। और नई-नई चीजें सीख सकते हैं…



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई


You may have missed

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x