‘वह बहुत प्यार करता था, कुछ लोगोने ब्रेनवॉश कर मेरे बेटे को बनाया आतंकी’, पहली बार सामने आयी लादेन की मां

0
29

अलकायदा सरगना रहे ओसामा बिन लादेन की मां आलिया घानेम पहली बार मीडिया के सामने आई हैं. लादेन की मौत के करीब सात साल बाद घानेम ने कहा कि जब ओसामा बिन लादेन सऊदी अरब के जेद्दा की किंग अब्दुल्लाजीज यूनिवर्सिटी में इकोनॉमिक्स की पढ़ाई कर रहा था, तभी कुछ लोगों के संपर्क में आया, जिन्होंने उसका ब्रेनवॉश कर दिया. इसके बाद वो कट्टरपंथी बन गया. ‘द गार्जियन’ को दिए इंटरव्यू में लादेन की मां आलिया घानेम ने बताया कि उनका बेटा काफी शर्मीला हुआ करता था और पढ़ाई में भी अव्वल था।

लादेन बहुत शर्मीला था

लादेन के जन्म के कुछ समय बाद घानेम ने अपने पहले पति से तलाक ले लिया और दूसरी शादी कर ली थी. अब उनका एक परिवार है. लादेन की मौत को इतना समय बीत चुका है, लेकिन घानेम को आज भी उसको याद करती हैं. वो कहती हैं कि लादेन उनकी पहली औलाद था और वह काफी शर्मीला था. लादेन उनसे बहुत ज्यादा प्यार करता था. घानेम ने वर्दी पहने ओसामा बिन लादेन की तस्वीर आज भी अपने पास रखी हुई है.

पढाइ के दौरान कट्टरपंथी के संपर्क मे आया लादेन

जेद्दा की किंग अब्दुल्लाजीज यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान ही ओसामा कट्टरपंथी बना। बेटे के बचपन को याद करते हुए घानेम ने बताया, ‘यूनिवर्सिटी के लोगों ने उसे बदल दिया। वह एक अलग आदमी बन गया। वहां वह अब्दुल्ला अजाम नाम के एक शख्स से मिला, जो मुस्लिम ब्रदरहुड का सदस्य था, जिसे सऊदी अरब से निर्वासित कर दिया गया था और बाद में वह ओसामा का धर्मगुरु बना।’

अब्दुल्ला ने ओसामा का ब्रेनवॉश कर दिया और पूरी तरह से अपनी तरफ कर लिया। अब्दुल्ला यह सारा काम पैसों के लिए करता था और नौजवानों को अपनी बातों में लेकर बहकाता था। हमने ओसामा से पूछा तो उसने किसी भी गलत काम में जुड़े होने से इंकार कर दिया। हमने उसे बहुत समझाया कि इस रास्ते पर चलकर कुछ हासिल नहीं होगा।सऊदी सरकार भी लादेन के साथ काफी अच्छी थी लेकिन फिर उसका दूसरा चेहरा सामने आया ‘ओसामा द मुजाहिद’।पहली बार लादेन 1980 के दशक के शुरुआती सालों में रूस के कब्जे के खिलाफ लड़ने अफगानिस्तान पहुंचा।

हमने कभी नहीं सोचा था कि वह जिहाद के रास्ते पर चल पड़ेगा।

घानेम ने बताया कि आखिरी बार उन्होंने ओसामा को 1999 में अफगानिस्तान में देखा था, उस साल वह दो बार ओसामा से मिलने गई थी। उस वक्त ओसामा कंधार के ठीक बाहर अपने ठिकाने में रह रहा था।लादेन के सौतेले भाइयों ने बताया कि 9/11 आतंकी हमले को 17 साल हो गए हैं लेकिन आज भी उनकी मां ओसामा को नहीं बल्कि उसके साथ रहने वालों को दोषी मानती हैं।लादेन के सौतेले भाई ने बताया कि 9/11 आतंकी हमले के 48 घंटे बाद उन लोगों को पता चला कि इसके पीछे ओसामा का हाथ था। हमारे सिर शर्म से तब झुक गया था। अब दो दशक बाद उनके परिवार में माहौल ठीक हुआ है और अब वे खुलेआम घूम सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि 9 सितंबर 2001 को अमेरिका के न्यूयॉर्क की नाक कही जाने वाली इमारत वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर आतंकियों ने हमला कर दिया था। अल कायदा के इस आतंकी हमले में हजारों अमेरिकियों की मौत हुई थी। इस हमले के पीछे लादेन का हाथ था और बराक ओबामा ने राष्ट्रपति बनते ही ओसामा को ढूंढ निकाला और उसे 2 मे, 2011 मे मार गिराया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here