18 June 2021

Kamachipuri Adinam temple Irugur Coimbatore worship Corona as a goddess corona mata temple – महामारी के खिलाफ अब भगवान ही हैं सहारा? यहां स्थापित हुआ ‘कोरोना वाली माता’ का मंदिर, चलेगा हवन; पुजारी बोले- देवी ही बचाएंगी

पूरी दुनिया इस समय कोरोना महामारी से बचने का उपाय ढूंढ रही है। लोग इस महामारी से बचने के लिए दवा से लेकर दुआ तक का रास्ता अपना रहे है। ऐसे में तमिलनाडु के कोयबंटूर के इरुगुर स्थित कमाचीपुरी आदिनाम मंदिर में कोरोना को देवी मानकर प्रतिमा स्थापित करके उनकी पूजा करने का फैसला किया है। ‘कोरोना देवी’ की मूर्ति 1.5 फीट लंबी है। इस तरह भारत के 330 करोड़ देवी-देवताओं की सूची में एक नयी देवी का नाम भी जुड़ गया।

मंदिर के पुजारी ने बताया कि हम लगातार ‘कोरोना देवी’ से प्रार्थना कर रहे हैं कि वो हम सभी पर दया करें और इस वायरस से छुटकारा दिलाने में मदद करें। उन्होंने ये भी कहा कि जब सैकड़ों वर्ष पहले लोग प्लेग और अन्य जानलेवा बीमारियों से जूझते थे तो वह भगवान की पूजा करना शुरू कर देते थे। उनका मानना था कि कठिन समय में केवल भगवान ही उनकी मदद करते हैं। बाद में पूजा मंदिरों में होने लगी। इसलिए हमने कोरोना देवी का मंदिर बनाया है और हमारा दृढ़ विश्वास है कि भगवान लोगों को इस महामारी से जरूर बचाएंगे।

आपको बता दें कि कोरोना गाइडलाइन्स के कारण ‘कोरोना देवी’ मंदिर के अंदर केवल पुजारी व मठ के अधिकारी ही अंदर जा सकते है। इस दौरान मंदिर में सामाजिक दूरी का भी सख्ती से अनुपालन किया जा रहा है। सूत्रों ने बताया कि यह पूजा 48 दिनों तक की जाएगी पूजा में हम ‘कोरोना देवी’ से इस घातक बीमारी से बचाने के लिए दैनिक प्रार्थना कर रहे है। पूजा के आखिरी दिन महायज्ञ का भी आयोजन किया जाएगा।

कुछ दिन पहले उत्तर प्रदेश के वाराणसी से कुछ तस्वीरें सामने आयी थीं जिसमें महिलायें कोरोना गाइडलाइन्स की धज्जियां उड़ाती हुई दिखीं। काशी के जैन घाट किनारे भारी संख्या में महिलायें कोरोना को देवी मानकर उनको प्रसन्न करने करने के लिए जुटी थीं।

इससे पहले भी ऐसी आपदाओं के समय तमिलनाडु में मंदिर बनाया गया है। जब 1900 में प्लेग भारत में तबाही मचा रहा था तब भी कुछ लोगों ने मिलकर प्लेग मरिअम्मन मंदिर का निर्माण कराया था। पिछले साल जून में भी दक्षिण भारत में इस तरह की पूजा की गयी थी। केरल के कोल्लम स्थित कडक्कल में इसी तरह की एक मूर्ति स्थापित की गई थी तांकि कोरोना वायरस से बचाव किया जा सके।



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई


You may have missed

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x