18 June 2021

Indian-team-returning-from-dominica-empty-handed-mehul-choksi-not-to-be-moved-from-there-till-july- भारतीय टीम मेहुल के बिना खाली हाथ डॉमिनिका से रवाना

हीरा कारोबारी मेहुल चौकसी को दिल्ली लाने के लिए कई दिन से डॉमिनिका में पड़ी भारतीय टीम खाली हाथ स्वदेश लौट रही है। डामिनिका कोर्ट ने कहा है कि मेहुल जुलाई तक वहीं रहेगा। इसके पहले कोर्ट ने उसकी जमानत याचिका रद्द कर दी थी। कांग्रेस ने इस बीच आरोप लगाया है कि यह सरकार दरअसल चाहती ही नहीं कि मेहुल लौटे। कांग्रेस के एक नेता ने कहा कि जब डॉमिनिका में चल रहे केस में भारत पार्टी ही नहीं तो उसके हाथ मेहुल की सिपुर्दगी कानूनन हो भी नहीं पाती।

सीबीआइ और ईडी के अफसरों की टीम जो कई दिनों से डॉमिनिका में थी, इस बीच वहां से उसी प्राइवेट जेट से भारत के लिए रवाना हो गई, जिल मेहुल को इंडिया लाने के लिए सरकार ने बड़े महंगे किराए पर लिया था। टीम रात 11 बजे दिल्ली पहुंचेगी।

इससे पहले डॉमिनिका की अदालत ने मेहुल का बंदी प्रत्यक्षीकरण (हैबियस कोरपस) का मामला जुलाई तक स्थगित कर दिया ओर आदेश दिया कि इस बीच आरोपी को डॉमिनिका से बाहर नहीं किया जाए।

उल्लेखनीय है कि कल डॉमिनिका की अदालत ने मेहुल चौकसी के वकीलों की एक न सुनी थी और उसे जमानत देने से इन्कार कर दिया। वकीलों ने बेल के लिए अपने मुवक्किल पर कड़ी से क़ड़ी शर्तें लगाने का सुझाव दिया था। यहां तक कि सामान्य से दुगनी पेनाल्टी, दस हजार डालर लगाने तक का प्रस्ताव दे डाला था। लेकिन कोर्ट न माना। अभियोजन पक्ष का तर्क था कि जमानत पाते ही चौकसी डॉमिनिका से भाग जाएगा।

उल्लेखनीय है कि मेहुल पर भारत में साढ़े 13 हजार करोड़ रुपए के बैंक फ्रॉड का आरोप है। उसने भारत से चुपचाप निकल कर कैरीबियन देश एंटीगा की नागरिकता ले ली थी। भारत उसका प्रत्यर्पण चाहता है।

उल्लेखनीय है कि हीरों का व्यापारी मेहुल 23 मई को एंटीगा से रहस्यमय ढंग से लापता हो गया था। उसके खबर आई कि उसे एंटीगा के पड़ोसी देश डॉमिनिका में अवैध प्रवेश के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है। कहा गया था कि वह अपनी गर्लफ्रेंड के साथ घुमक्कड़ी करते हुए वहां जा पहुंचा था और पकड़ा गया। 2018 से पिछली 23 मई तक एंटीगा में बतौर नागरिक रहने वाले मेहुल का कहना है कि वह खुद नहीं पहुंचा वरन् अगवा करके डॉमिनिका लाया गया है।

इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने आरोप लगाया है कि भारत सरकार दरअसल मेहुल को वापस लाना ही चाहती। उन्होंने कहा कि जब डॉमिनिका में चल रहे केस में भारत पार्टी ही नहीं बना तो फिर वह मेहुल को कैसे ला सकता है। अल्वी ने कहा कि भारत में सिर्फ मेहुल ही नहीं कई व्यक्ति वांछित हैं। सरकार को उनके बारे में कोई चिंता ही नहीं.




You may have missed

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x