Home टेक ज्ञान कार्टोसेट 3, भारतीय उपग्रह लांच किया गया है, यह भारत की सुरक्षा गतिविधियों पर ध्यान रखेंगा

कार्टोसेट 3, भारतीय उपग्रह लांच किया गया है, यह भारत की सुरक्षा गतिविधियों पर ध्यान रखेंगा

6 second read

अंतरिक्ष में भारत की दूसरी आंख कहे जाने वाले कार्टोसेट सीरीज के नए उपग्रह कार्टोसेट 3  को इसरो द्वारा सफलतापूर्वक अपने कक्षा में स्थापित कर दिया गया है। इसके साथ ही अमेरिका के 13 छोटे-छोटे उपग्रहों को भी अंतरिक्ष में स्थापित किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी इसरो को इसके लिए बधाई दी है।

इसरो ने एक बार फिर अंतरिक्ष में भारत का झंडा गढ़ाया है। भारत देश को इसरो ने फिर से गौरवान्वित किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर पर ट्वीट करके लिखा “मैं इसरो को PSLV C के 47 द्वारा हमारे स्वदेशी उपग्रह कार्टोसेट 3 के सफलतापूर्वक लॉन्च किए जाने पर बधाई देता हूं।”  कार्टोसेट 3, हमारी इमैजिनेशन पावर को बढ़ाएगा।

इस उपग्रह को बुधवार को सुबह श्रीहरिकोटा से सफलतापूर्वक ‘इसरो स्पेस स्टेशन’ के द्वारा प्रक्षेपित किया गया है। यह दुश्मन की हर गतिविधि पर पैनी नजर रखेगा। साथ ही मौसम की भविष्यवाणी भी इससे की जा सकेगी। इससे पहले भी कार्टोसेट 3 सीरीज के जरिए अन्य 8 उपग्रह लांच उपग्रह लांच किए जा चुके हैं। इस उपग्रह को नवीनतम तकनीक से बनाया गया है।

साथ ही इसकी क्षमता भी बहुत ज्यादा है। यह उपग्रह श्रीहरिकोटा केंद्र से आज बुधवार सुबह 9:00 बज के 28 मिनट में रवाना हुआ। इसरो ने बताया कि हाल ही में बनाई गई ‘न्यू स्पेस इंडिया लिमिटेड’ ने पहले ही तेरह अमेरिकी नैनो सेटेलाइट प्रक्षेपित करने के लिए इसरो के साथ समझौता किया था।

कार्टोसेट 3, यह उपग्रह 1625 किलो वजन का है। साथ ही 509 किलोमीटर दूर अपनी कक्षा में इसे स्थापित किया जाएगा, इसकी उम्र 5 साल की होगी। इस उपग्रह के लिये बुधवार को सुबह 7:28 से इसका काउंटडाउन शुरु कर दिया गया था। कार्टोसेट 3, इसका अर्थ ऑब्जर्वेशन होता है यह एक तरह की ऑब्जर्वेटरी सेटेलाइट है जो अंतरिक्ष से भारत पर नजर रखेगी।

इसमें हाई तकनीक का कैमरा लगाया गया है। इस सैटेलाइट की तस्वीरें इतनी हाई क्वालिटी की होंगी की जमीन पर खड़े आदमी की कलाई पर बंधी खड़ी को भी अंतरिक्ष सैटेलाइट कैप्चर कर लेगा। इस सेटेलाइट का मुख्य उद्देश्य अंतरिक्ष से भारत की सुरक्षा व्यवस्था पर कड़ी नजर रखना है।

कार्टोसेट 3, का उपयोग मौसम की जानकारी रखने के लिए दुश्मनों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए, सैन्य व्यवस्था को सुचारू रूप रूप को सुचारू रूप रूप से बनाए रखने के लिए  किया जाएगा। इसके साथ भारत की सीमा पर कड़ी निगरानी रखने के लिए इसका उपयोग किया जाएगा। इसरो ने भारत को अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में बहुत सफलता हासिल करवाई है। भारत भी अब अन्य सफल देशों की तरह अंतरिक्ष में लंबी उचाईयां छू रहा है।

 

Load More Related Articles
Load More By suman rajawat
Load More In टेक ज्ञान

Check Also

करीना कपूर खान की सास शर्मिला टैगोर ने बताया बेटी और बहु में क्या अंतर होता है

करीना कपूर अपनी फिल्मों के साथ-साथ अपने एक रेडियो पॉडकास्ट ‘व्हाट विमेन वांट’ …